स्वागत

ब्लाग पर आने पाठकों के विचारों एवं सुझावों का स्वागत है.
"अयं निज : परोवेति गणना लघु चेतसाम् । उदार चरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम॥"

06 मई 2010

खण्डहर








खण्डहर पुकार रहे हैं
मैं बीता हुआ कल हूं
अतीत की लाश हूं
मुझे हटाओ
नया बनाओ

पर मुझे उनकी आवाज सूनाई नहीं देती
और आंखों के सामने खुली सच्चाई दिखाई नहीं देती
मैं खण्डहर भक्त हूं
खण्डहर के शत्रु मूझे समाज के शत्रु प्रतीत होते हैं
यद्यपि मैं अंधा हूं (और शायद बहरा भी)
पर दूसरे को अंधा कहने का मुझे हक है

मैंने सुन रखा है
कभी इस इमारत की अलग ही शान थी
इस इलाके में इसकी पृथक पहचान थी
मुझे बचपन से ही कथाओं से प्रेम है
अंतर केवल इतना है
पहले मै कथा केवल सुनता था
अब उन्हें सच भी मानता हूं

जोर की आवाज आई
खण्डहर की दीवारें भी गिर गई
अब यह मलबा सडक मे अवरोध पैदा कर रहा है
आने जाने वालों को दिक्कत हो रही है
पर मैं उन्हे नहीं हटाने दूंगा
आखिर आम नहीं खास हूं
एम ए पास हूं

खण्डहर कभी महल थे
यह बात सच है
खण्डहर अब केवल खण्डहर हैं
यह बात भी सच है

खण्डहर की वस्तुएं अजायबघर की शोभा बढाती हैं
घर की शोभा नष्ट करती हैं
हमारी जवाबदेही हैं
आगे आएं
खण्डहर हटाएं
नया बनाएं

7 टिप्‍पणियां:

  1. waah adbhut rachna...sahi hai kal ko bhool nayi tasveer sajaane ka waqt aa gaya hai...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना, ब्लॉगजगत में स्वागत है आपका!

    उत्तर देंहटाएं
  3. खंडहरों का भी अपना एक महत्त्व है | इस सुन्दर रचना का आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  4. @नरेश सिह राठौङ :उक्त कविता में खंडहर अप्रासंगिक हो चुकी रूढियों यथा सती प्रथा,बाल विवाह,दहेज प्रथा,कन्या वध,पर्दा प्रथा,डाकिनी एवं डावरिया प्रथा,सगोत्र विवाह निषेध,मृत्यु भोज आदि का प्रतीक है.
    आपकी टिप्पणी के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपसे बिलकुल ही सहमति है.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और प्रेरणा प्रदान करती हैं .आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है.(सच तो यह है कि टिप्पणी प्रेमी/प्रेमिका की तरह है, जब भी दीदार हो, अच्छा लगता है.)